आर्थिक सशक्तीकरण

  • प्रखंड स्तरीय सहकारी समितियों को प्रारंभिक पूँजीगत कोष निर्माण के लिए अनुदान: प्रारंभिक पूंजी कोष ‘मुख्यमंत्री नारी शक्ति योजना’ के महत्वपूर्ण घटकों में से एक है। इसे स्वयं सहायता समूह की अपने प्रखण्ड स्तरीय महासंघ सहकारी समितियों के माध्यम से सीधे वित्तीय और तकनीकी संसाधनों की पहुंच सुनिष्चित करने के लिए डिजाइन किया गया है। इसका आधार सहभगिता पूर्ण सूक्ष्म नियोजन के अनुसार सदस्यों की मांग है। प्रति समूह अधिकतम रुपये 20000/- दी जाने वाली यह राशि इतनी अधिक नहीं है कि परियोजना के अन्दर आने वाले सभी परिवारों की गरीबी को मिटाने में मदद कर सके, इसलिए इसका उपयोग उत्प्रेरक की तरह उनकी ऋण साख बनाने में किया जाता है। जिससे वे बाद में मुख्य धारा की ऋण देने वाली संस्थाओं, जैसे कि बैंक आदि से ऋण ले सकें। इसका उद्देश्य है गरीबों की आजीविका को बेहतर और उनकी संस्था को संवहनीय बनाना।

 

उपलब्धि –

    •  अभी तक 6050 स्वंय सहायता समूहों में कुल 101216500 रू0 का ऋण वितरित किया जा चुका है।
    • स्वयं सहायता समूहों/सहकारी समितियों को कार्यकुशल बनाने के लिए आधारभूत संरचना का निर्माण:गठन और पोषण की प्रक्रिया के तहत् निर्मित स्वयं सहायता समूहों को निगम प्रखण्ड स्तर पर महासंघ के गठन हेतु क्षमता विकास तथा प्रोत्साहित करता है और उनके प्रखण्ड स्तरीय संगठन को इस योजना के तहत् तकनीकी सलाह एवं सहयोग प्रदान किये जाते हैं। निबंधन की प्रक्रिया बिहार स्वावलम्बी अधिनियम 1996 के प्रावधानों के अनुरूप किये जाते हैं। इसके तहत् गठित सहाकारी समितियों के सांगठनिक विकास एवं विभिन्न आयवर्ध्दक गतिविधियों के प्रोत्साहन के लिए आधारभूत संरचना के साथ ही तकनीकी सहयोग भी प्रदान किये जाते है।

उपलब्धि –

    •  निगम द्वारा राज्य के 17 जिलों में 66 प्रखण्डों में प्रखण्ड स्तरीय स्वयं सहायता समूहों की सहकारी समितियां गठित की गई है( कुल 66 सहकारी समितियों में से 13 समितियों का निबंधन प्रक्रियाधीन है); जिसका योजना के तहत् पोषण किया जा रहा है। वर्ष 2011-12 में 16 नयी सहकारी समितियां गठित किये जाने का लक्ष्य है, जिसमें से 4 सहकारी समितियां गठित की जा चुकी हैं।
    • स्वयं सहायता समूहों/सहकारी समितियाँ के लिए अवसरों की उपलब्धता: स्वयं सहायता समूहों और उनकी प्रखण्ड स्तरीय सहकारी समितियों के स्वावलम्बी बनाने के उद्देय से निगम उन्हें कार्यकुशल बनाने के लिए आधारभूत संरचना का निर्माण, सेवा प्रक्षेत्र के लिये प्रशिक्षण एवं कार्य अनुसंधान तथा परियोजना कार्यान्वयन के लिये अध्ययन एवं परियोजना प्रतिवेदन तैयार करने में तकनीकी एवं वित्तिय सहयोग प्रदान करता है। साथ ही सरकार की विभिन्न योजनाओं के प्रति जागरूकता बढ़ा कर उनके लाभ से समूहों की सदस्यों को जोड़ने के प्रयास भी किये जाते हैं।

उपलब्धि –

    •  योजना के तहत् नालन्दा के बिहारषरीफ प्रखण्ड में बुनकर समुदाय की महिलाओं के साथ हस्तकरघा परियोजना पर कार्य किया जा रहा है; पटना जिला के फुलवारीशरीफ प्रखण्ड में स्वयं सहायता समूह की सदस्यों को सैनेटरी नैपकीन उत्पादन एवं विपणन का प्रषक्षण देकर उनकी आजीविका प्रोत्साहित की जा रही है; समस्तीपुर सदर प्रखण्ड में सहकारी समिति को टेन्ट हाउस का व्यवसाय करने के लिए प्रोत्साहित किया गया है; पटना जिला के मनेर प्रखण्ड में तकनीकी संस्था लाईवलीहुड स्कूल के साथ मिलकर स्थानीय सहकारी समिति आजीविका निर्माण की विभिन्न गतिविधियों को संचालित कर रही है। रइसके साथ ही स्वयं सहायता समूहो की 5 सहकारी समितियों को बांस हस्तकला (कल्याणपुर, समस्तीपुर), मधुबनी चित्रकला और जूट फोल्डर (दरभंगा सदर एवं बहादुरपुर, दरभंगा) तथा टेन्ट हाउस व्यवसाय (वजीरगंज एवं बाराचट्टी) का समर्थन किया जा रहा है।
  • सेवा प्रक्षेत्र प्रशिक्षण: महिला विकास निगम उचित डिग्री प्राप्त गरीब महिलाओं एवं किशोरियों को व्यवसायिक प्रशिक्षण एवं व्यवसाय कौशल पर उनके क्षमता विकास के उद्देश्य से सेवा प्रक्षेत्र में प्रशिक्षण की योजना चला रहा है। योजना के तहत् चयनित किशोरियों एवं महिलाओं को हाउस कीपिंग, व्यूटीशियन, कम्प्यूटर एवं सेल्स मैनेजमेंट का प्रशिक्षण कार्यक्षेत्र में विशिष्ट अनुभव एवं योग्यता धारक प्रशिक्षण संस्थानों/संस्थाओं द्वारा दिलवाया है। यह प्रशिक्षण चयनित प्रशिक्षुओं के लिए नि:शुल्क होता है।
वर्ष 2010-11 में योजना राज्य के सभी प्रमण्डल मुख्यालयों में संचालित की गई; इसकी उपलब्धि इस प्रकार है
प्रशिक्षण संकाय

कम्प्यूटर मैनेजमेंट

सेल्स मैनेजमेंट

हाउस कीपिंग

ब्यूटीशियन

प्रशिक्षणार्थी

1020

90

510

360

रोजगार से जुड़ाव

160

37

122

186

  • योजना के तहत् ब्यूटीशियन ट्रेड में प्रशिक्षण के लिए अनुभवी संस्थानों से अखबार विज्ञापन के माध्यम से आवेदन आमंत्रित किये गये हैं तथा इसकी scrutiny की जा रही है । जल्द ही नया ट्रेनिंग प्रारंभ किया जाये